आमजन के लिए आमजन द्वारा

क्या आप जानते है भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. जाकिर हुसैन की यह बात

242

जाकिर साहब की हाजिरजवाबी देखकर शिक्षक महोदय का गुस्सा मुस्कराहट में बदल गया। वह बोले, ‘बहुत खूब। आपकी हाजिरजवाबी ने मुझे प्रभावित कर दिया।

 

डॉ. जाकिर हुसैन ,यह बात उनके राष्ट्रपति बनने के पहले की है। जब वह विशेष अध्ययन के लिए जर्मनी गए हुए थे।

डॉ. जाकिर हुसैन भारत के तीसरे राष्ट्रपति थे जिनका कार्यकाल 13 मई 1967 से 3 मई 1968 तक था। वहां कोई भी अनजान व्यक्ति दूसरे अनजान को देखकर अपना नाम बताते हुए हाथ आगे बढ़ा देता था। इस प्रकार अपरिचित लोग भी एक दूसरे के दोस्त बन जाते थे। दोस्ती करने का यह रिवाज वहां काफी प्रचलित था।

एक दिन जाकिर हुसैन कॉलेज में वार्षिकोत्सव मनाया जा रहा था। कार्यक्रम का समय हो चुका था। सभी विद्यार्थी व शिक्षक वार्षिकोत्सव के लिए निर्धारित स्थल पर पहुंच रहे थे। जाकिर साहब भी जल्दी-जल्दी वहां जाने के लिए अपने कदम बढ़ा रहे थे। जैसे ही उन्होंने कॉलेज में प्रवेश किया, एक शिक्षक महोदय भी वहां पहुंचे। दोनों ही जल्दबाजी और अनजाने में एक-दूसरे से टकरा गए।

शिक्षक महोदय जाकिर साहब से टक्कर होने पर गुस्से से उन्हें देखते हुए बोले, ‘इडियट।यह सुनकर जाकिर साहब ने फौरन अपना हाथ आगे की ओर बढ़ाया और बोले, ‘जाकिर हुसैन। भारत से यहां पढ़ने के लिए आया हुआ हूं।

जाकिर साहब की हाजिरजवाबी देखकर शिक्षक महोदय का गुस्सा मुस्कराहट में बदल गया। वह बोले, ‘बहुत खूब। आपकी हाजिरजवाबी ने मुझे प्रभावित कर दिया। इस तरह परिचय देकर आपने हमारे देश के रिवाज को भी मान दिया है और साथ ही मुझे मेरी गलती का अहसास भी करा दिया है।

वाकई हम अनजाने में एक-दूसरे से टकराए थे। ऐसे में मुझे क्षमा मांगनी चाहिए थी। अपशब्द नहीं बोलने चाहिए थे।

शिक्षा

“अगर क्रोध से भरे हुए व्यक्ति का विनम्रता पूर्वक स्वागत करते हैं तो वह भी पिघल जाता है। इसलिए विनम्रता का गुण अपनाइए।”

Comments are closed.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com