आमजन के लिए आमजन द्वारा

पुलिस का एक चेहरा यह भी, अनाथ बेटी का धूमधाम से किया कन्यादान

461

दतवास थाना स्टाफ ने थाने को शानदार सजाया। थाना परिसर में गरीब परिवार की लड़की की शादी करवाई। बारातियों का स्वागत किया। सारा खर्च स्टाफ ने वहन किया। किसी से भी आर्थिक सहयोग नहीं लिया। इसी के साथ यह एक मिशाल बन गई . . .

नवीन वैष्णव – पुलिस को अधिकतर अपनी कार्यप्रणाली के लिए भला-बुरा सुनने को मिलता है, लेकिन इस बार पुलिस का ऐसा चेहरा सामने आया है, जिसकी जितनी तारीफ की जाए उतनी कम है। दरअसल टोंक जिले के दतवास थाना पुलिस ने एक अनाथ बालिका को गोद लेकर उसका कन्यादान किया है। पुलिस ने बालिका के विवाह का पूरा खर्च तो उठाया ही यहां तक कि बरातियों के स्वागत और सत्कार में भी में भी कोई कसर नहीं छोड़ी। विवाह के सभी कार्यक्रम भी थाना परिसर में ही सम्पन्न हुए।

दतवास गांव की रहने वाली ममता महावर के सिर से बचपन में ही पिता का साया उठ गया। इसके बाद इकलौता भाई की भी डेढ़ साल पहले लम्बी बीमारी से मौत हो गई। ममता की मानें तो भाई की बीमारी में उन्हें काफी कर्जा उधार लेना पड़ा था। इसके बाद वह खुद भी मजदूरी करने लगी थी लेकिन फिर भी कर्ज नहीं चुका पा रही थी।

मगनरेगा की राशि से हुआ चमत्कार

दतवास थानाधिकारी उपनिरीक्षक दयाराम चौधरी बताते हैं कि गत दिनों ममता ने उनके थाना परिसर में मगनरेगा के तहत काम किया था। उसकी मजदूरी के रूपए किसी कारणवश नहीं आए थे। जिसकी शिकायत उसने थाना पुलिस को दी। पुलिस स्टॉफ से उन्हें जानकारी मिली तो उन्होंने सरपंच से राशि जल्द ही दिलवाने का निवेदन किया और उक्त राशि उसे मिल भी गई। इस दौरान थाना स्टॉफ को जानकारी मिली कि ममता और उसकी मां की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है। आगामी आखातीज यानि की 18 अप्रेल को ममता की शादी भी तय हो गई है। इस पर उन्होंने थाना स्टॉफ के साथ मिलकर ममता का कन्यादान करवाने की ठानी और आज सम्पूर्ण रीति रिवाज विवाह के साथ ममता की शादी करवाई।

थाने में हुई मान-मनुहार

थानाधिकारी दयाराम चौधरी बताते हैं कि बारातियों का स्वागत सहित अन्य व्यवस्थाएं थाना परिसर में ही की गई। थाना परिसर आज रोशनी से सराबोर नजर आया। यहां बरातियों की अच्छे से मान-मनुहार की गई। उन्होंने कहा कि तोरण और फेरे की रस्म ममता के घर पर हुई। अन्य सभी रस्में थाना परिसर में ही करवाई गई।

सपना हुआ सच

ममता की मां सीमा देवी ने कहा कि वह आस-पास में होने वाली शादियों की धूमधाम देखकर सोचती थी कि काश उसकी बेटी ममता की भी ऐसी शादी हो, लेकिन हर बार आर्थिक तंगी का सोचकर मन मसोस कर रह जाती थी। सीमा देवी ने कहा कि थानाधिकारी दयाराम उनके लिए भगवान का रूप बनकर आए और बेटी की धूमधाम से शादी सम्पन्न करवाई।

नहीं लिया नगद सहयोग

थानाधिकारी दयाराम ने कहा कि उनके थाना स्टॉफ ने ही शादी के लिए सभी व्यवस्थाएं की। किसी भी व्यक्ति से नगद सहयोग नहीं लिया गया। जिसने भी सहयोग की बात कही, उनसे गृहस्थी का सामान या कन्यादान के रूप में नगद राशि देने को कहा। ममता को लोगों ने भी दिल खोलकर उपहार दिए।

इन्होंने दिया आर्शिवाद

ममता को आर्शिवाद देने के लिए टोंक जिला पुलिस अधीक्षक योगेश दाधीच, अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक अवनीश शर्मा, स्थानीय विधायक हीरालाल रेगर, अनुसूचित जाति जनजाति आयोग के अध्यक्ष विकेश खोलिया सहित कई गणमान्य लोगों ने विवाह में शिरकत करके नवविवाहित दम्पति को सुखमय जीवन के लिए आर्शिवाद प्रदान किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com