आमजन के लिए आमजन द्वारा

रामनिवास धाम में किया “फाईनेशिंग के लड्डू” पुस्तक का विमोचन

पुस्तकों के आधार पर जिंदा है सनातन संस्कृति - रामदयाल महाराज

77

मूलचन्द पेसवानी/शाहपुरा/भीलवाड़ा – रामस्नेही संप्रदाय के पीठाधीश्वर स्वामी रामदयाल महाराज ने मंगलवार को प्रातःकालीन चार्तुमास धर्मसभा के दौरान रामनिवास धाम में फाईनेशिंग के लड्डू पुस्तक का विमोचन किया।

पुस्तक का विमोचन करते हुए स्वामी रामदयाल महाराज ने कहा कि अपने अनुभवों को पुस्तक में समेटकर प्रकाशन किया जाना निश्चित रूप से समाज के लिए लाभदायी रहता है। उन्होंने लेखक कपिल लढ़ा को आशीर्वाद देते हुए कहा कि सनातन काल से पुस्तक लेखन का कार्य होता आया है। आज सनातन संस्कृति जिंदा है तो पुस्तकों के आधार पर। इसलिए पुस्तक का लेखन अनवरत होने से इतिहास के साथ समसामयिक घटनाओं के बारे में भी समाज को जानकारी मिलती रहती है। स्वामी ने व्यंग करते हुए कहा कि रामनिवास धाम में तो प्रसाद भी लड्डू का ही मिलता है तो फिर यह पुस्तक फाईनेशिंग के लड्डू क्यों न हो।

इस मौके पर रामनिवास धाम के ट्रस्टी जगदीश सोमाणी, सतीश भदादा, अशोक अजमेरा, बद्रीनारायण लढ़ा, ओमप्रकाश झंवर, कंवरलाल पोरवाल, रमेशचंद्र राठी सहित रामस्नेही अनुरागी मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com