आमजन के लिए आमजन द्वारा

देखता और सुनता है गंगापुर प्रशासन ?

नदी के पेट में गहरे जख्म कर बिंदास है बजरी माफिया, प्रशासन की नजर में धड़ल्ले से हो रहा है बजरी का खनन

71

जयन्ति लाल नेहरिया/कोशीथल/भीलवाड़ा – बजरी माफियाओं की दादागिरी चरम पर है। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए गंगापुर पुलिस थाना से महज 15 किलोमीटर की दूरी पर कोशीथल गांव के समीप नदी के पेटे से बेखौफ होकर बजरी का दोहन किया जा रहा है।

प्रशासन से इनकी मिलीभगती का ही परिणाम है कि गंगापुर-रायपुर मुख्य सड़क पर से गुजरने वालों को नदी के पेटे से अवैध बजरी खनन होता हुआ साफ नजर आता है। ग्राम पंचायत के ग्राम विकास अधिकारी से लेकर पटवार मण्डल के पटवारी भी इसी सड़क से गुजरते है। यही नहीं उपखण्ड अधिकारी व तहसीलदार जैसे प्रशासनिक अधिकारी भी इस सड़क से गुजरते है। हालांकि हो सकता है उनके गुजरने के दौरान नदी के पेटे में बजरी खनन न हो रहा हो लेकिन बजरी खनन के सीमटम्स तो दिखलाई पड़ ही जाते है लेकिन कोई भी सरकारी कर्मचारी और अधिकारी अवैध बजरी खनन को रूकवाने का प्रयास नहीं कर रहा है। नतीजा यह है कि नदी के पेटे में बड़े-बड़े गहरे गड्ढ़े कर दिए है। एनिकट के दोनों ओर करीब तीन-तीन किलोमीटर दूर तक अवैध बजरी खनन जारी है।

उल्लेखनीय है कि कोशीथल के बाशिन्दों ने पूर्व में कई बार अवैध बजरी खनन माफियाओं के विरूद्ध प्रशासन से शिकायतें की लेकिन प्रशासन द्वारा अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो कोशीथल से होकर गुजर रही कोठारी नदी की बजरी पूर्णतः तहस-नहस कर दी जाएगी।

अवैध बजरी की जानकारी मुझे नहीं है, हां मैं जानता हूं कि कोशीथल से ठीक पहले एक नदी गुजर रही है। मैं अभी वहां टीम भेजकर अवैध खनन की जानकारी करवाता हूं। – उपखण्ड़ अधिकारी, गंगापुर

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com