आमजन के लिए आमजन द्वारा

जिग्नेश मेवानी ने जयपुर में किया जनसंवाद, बीजेपी को वोट न देने की दिलाई शपथ

133

नीरज बुनकर/जयपुर – 2 अप्रैल 2018 के भारत बंद के बाद राज्य सरकार द्वारा लगातार दलितों व आदिवासियों पर किये जा रहे दमन को लेकर 14 मई 2018 को जनसंवाद का आयोजन किया गया। जिसमें विभिन्न छोटे-बड़े संगठनों ने भाग लिया और सामूहिक रूप से दलित आदिवासी दमन प्रतिरोध आन्दोलन के बैनर तले कार्यक्रम का आयोजन किया गया। उल्लेखनीय है कि विभिन्न दलित व आदिवासी संगठनों के द्वारा 2 अप्रैल को भारत बंद का आयोजन किया था, इस दिन कई जगहों पर शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे लोगों पर हमले किए गए और उन पर मुकदमें दर्ज कर जेल भेज दिया गया। उसके बाद दलित संगठनों में भारी आक्रोश देखने को मिला और राज्य सरकार के प्रति उनका गुस्सा बढ़ गया। ऐसे ही मामलों की जानकारी लेने, 2 अप्रेल के हमलों के पीड़ितों से मिलने और दलित व आदिवासी मुद्दों पर कार्य कर रहे संगठनों के लोगों से मिलने गुजरात के बड़गाम विधानसभा क्षेत्र के विधायक जिग्नेश मेवानी जयपुर आए। जिग्नेश मेवानी के राजस्थान में सक्रिय होने से वसुंधरा सरकार भयभीत है।

जनसंवाद के दौरान लोगों ने कहा कि 2 अप्रेल को पुलिस प्रशासन की मदद से भारी तादाद में दलित युवा छात्रों, सरकारी कर्मचारियों व दलितों की आवाज़ मुखर करने वाले तमाम सक्रिय लोगों को अप्रासंगिक संगीन धाराओं में गिरफ़्तार करके जेल में डाला गया। जिसमें आधे लोगों की जमानत आज तक नहीं हुई है। सरकार के ऊपर दबाव बनाने व बेफ़िज़ूल गिरफ़्तार कर जेल में डाले गए लोगों को छुड़वाने के लिये जनव्यापी आंदोलन की चेतावनी देने के उद्देश्य से जयपुर के किसान भवन में जिग्नेश मेवानी के नेतृत्व में यह जनसंवाद करना पड़ रहा है। जनसंवाद कार्यक्रम को विख्यात सामाजिक कार्यकर्ता अरुणा रॉय, कॉमरेड़ अमरा राम, सामाजिक कार्यकर्ता निखिल डे, ऐन्नी नामाला, टेक चंद, राहुल कुमार, प्रेमकिशन शर्मा, तारा सिंह सिद्धू को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया था।

इसके एक दिन पहले जिग्नेश मेवानी व अन्य साथी खेरतल, नीम का थाना जाकर पीड़ितों से मिले। पूरे दिन के दौरे में पुलिस की लोगों के साथ मारपीट व ज़बरदस्ती के बारे में पीड़ितों से सुना। वहीं जनसंवाद में जिग्नेश मेवानी ने केंद्र व राज्य सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर दलित, शोषितों पर अत्याचार नहीं रुका तो राष्ट्रव्यापी आंदोलन किया जाएगा। साथ ही कार्यक्रम में शामिल हुए सभी लोगों से आगामी विधानसभा चुनावों में बीजेपी को वोट न देने की शपथ दिलवायी।

जन संवाद कार्यक्रम में राज्य भर से आए पीड़ित लोगों ने अपनी व्यथा बताई। बताया कि फर्जी तरीके से उनके खिलाफ दर्ज किये गये व अमानवीय तरीके से उनकी गिरफ्तारी की गयी। लोगों ने गिरफ्तार लोगों की ज़मानत के बारे में भी बताया। साथ ही इस मुद्धे पर काम कर रहे विशेषज्ञों ने भी क़ानूनी तरीको से मामले की असलियत को सबके सामने रखा। जन संवाद कार्यक्रम के बाद जिग्नेश मेवानी ने प्रेस कॉंफरेन्स को भी संबोधित किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.