आमजन के लिए आमजन द्वारा

जेएसजी विजय की पदस्थापना संग संगिनी जेएसजी विजय का शुभारंभ

अपना एक कदम पीछे कर नारी को आगे बढाये पुरूष : राकेश कुमार जैन

17

उदयपुर – बंधुत्व से प्रेम, बंधुत्व से सेवा और बंधुत्व से व्यापार के त्रि-आयामी उद्देश्य को पूरा कर रहे जैन सोश्यल गु्रप इंटरनेशन फैडरेशन के जेएसजीआईएफ मेवाड रिजन से जूडे जैन सोश्यल गु्रप विजय उदयपुर का पदस्थापना समारोह शहर के शुभ केसर गार्डन में आयोजित हुआ। इसके साथ ही संगठन एवं समाज में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाने के उद्देश्य से संगिनी जेएसजी विजय गु्रप का भी शुभारंभ किया गया।

पदस्थापना समारोह के मुख्य अतिथि जेएसजीआईएफ के पूर्व अध्यक्ष राकेश जैन ने जेएसजी विजय की वर्ष 2019-21 की कार्यकारीणी के रूप में अध्यक्ष किशोर कोठारी, सचिव लोकेन्द्र कोठारी और कोषाध्यक्ष हिम्मत सिंह सिसोदिया सहित बोर्ड मेम्बर्स को पदस्थापना की शपथ दिलाई।

इस दौरान राकेश जैन ने कहा कि जेएसजी मे या किसी भी सेवा कार्य मे कोई भी छोटा या बड़ा नहीं होता। संगिनी की महिला सदस्याओं को सम्बोधित करते हुए जैन ने कहा कि नारी शक्ति को अगर हमें मौका देना है तो पुरूषों को इसकी पहल करते हुए नारी से एक कदम पीछे होकर उन्हें एक कदम आगे बढ़ाना होगा और यही जेएसजी के संगिनी समूहों का उद्देश्य है। यही कारण है कि आज संगिनी के 80 क्लब्स में 8000 महिला सदस्याएं है।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि जेएसजीआईएफ मेवाड़ रिजन के चेयरमैन आर.सी. मेहता ने संगिनी गु्रप की नव निर्वाचित अध्यक्ष मधु खमेसरा, सचिव निर्मला कोठारी और कोषाध्यक्ष निर्माला बडाला सहित 51 महिला सदस्याओं को शपथ दिलाकर संगिनी गु्रप का शुभारंभ किया। इस दौरान मेहता ने कहा कि जैन समाज में तलाक के मामले काफी बढते जा रहे है जिसका मुख्य कारण युवाओं मे संस्कारों की कमी होना है। रिजन का उद्देश्य भी यही रहेगा कि सेवा कार्यो के साथ ही समाज के युवक-युवतियों को पाश्चात्य संस्कृति से पुनः जैन संस्कारो की ओर लाया जाये।

जेएसजी विजय के संस्थापक अध्यक्ष अनिल नाहर ने कहा कि जेएसजीआईएफ जैन समाज का एक मात्र ऐसा संगठन है जो पूरे विश्व में अपने 65 हजार दम्पत्ति और 8 हजार सदस्यों का प्रतिनिधित्व करते हुए जैन समाज का सबसे बड़ा समूह है। नाहर ने कहा कि जेएसजी विजय की स्थापना के साथ ही जैन समाज के आयोजनों में अधिकतम 21 व्यंजनों की मुहिम को काफी बल मिला है, और आगे भी यह मुहिम तब तक जारी रहेगा जब तक की हर एक जैन परिवार अपने घर में होने वाले मांगलिक कार्यक्रमों में 21 से ज्यादा व्यंजन नही बनाने की शपथ नहीं ले लेता।

पदस्थापना समारोह को जेएसजी विजय के नव निर्वाचित अध्यक्ष किशोर कोठारी, निवर्तमान अध्यक्ष गुणवंत वागरेचा, पूर्व अध्यक्ष राजेश खमेसरा, संगिनी जेएसजी विजय की नव निर्वाचित अध्यक्ष मधु खमेसरा ने भी सम्बोधित किया। इस दौरान महापौर चन्द्रसिंह कोठारी, मेवाड रिजन के निवर्तमान चेयरमैन ओ.पी. चपलोत, चेयरमैन इलेक्ट मोहन बोहरा, मेवाड़ रिजन के महासचिव अरूण मांडोत सहित जेएसजी के विभिन्न समूहों के पदाधिकारी उपस्थित रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com