आमजन के लिए आमजन द्वारा

जलदाय विभाग के एक्सईएन व अकाउटेंट रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार

15

बारां – भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने बुधवार को 20 हजार रूपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों जलदाय विभाग के अधीशाषी अभियन्ता हजारी लाल मीणा व कनिष्ट लेखाकार दिलखुश मीणा को गिरफ्तार किया है। रिश्वत पानी के टेंकरो का बिल पास करने की एवज में ली गई थी।

कोटा एसीबी सीआई रमेश आर्य ने बताया कि तेलफेक्ट्री बारां निवासी भगवान सहाय शर्मा ने शिकायत दर्ज कराई थी। जिसमें उल्लेख किया था कि उसकी सनाढ्य कन्स्ट्रक्शन कंपनी है। परिवादी का पीएचईडी बारां शहर व ग्रामीण में टेंकर से पीने के पानी की सप्लाई का ठेका है। परिवादी के वित्तीय वर्ष 2017-78 के पानी सप्लाई कार्य के 4 लाख रूपए के बकाया बिलों को पास करवाने के एवज में 4 जनवरी को पीएचईडी बारां खंड के एक्सईएन हजारी लाल मीणा ने 12 हजार रूपए की मांग कर दौरान सत्यापन 10 हजार रूपए प्राप्त कर लिए एवं दिलखुश मीणा ने कनिष्ट लेखाकार ने 7 हजार रूपए की मांग कर दो हजार दौराने सत्यापन प्राप्त कर लिए।

बुधवार को ट्रेप कार्यवाही कर अभियंता को दो हजार रूपए व एक हजार अतिरिक्त कुल तीन हजार रूपए व कनिष्ट लेखाकार अतिरिक्त प्रभार पीएचईडी बारां डिविजन के अकाउटेंट कनिष्ट लेखाकार दिलखुश को पांच हजार रूपए शेष रिश्वत राशि प्राप्त करते हुए रंगे हाथों एसीबी कोटा की स्पेशल टीम ने गिरफ्तार कर लिया। कार्यवाही में कांस्टेबल नरेंद्र सिंह, दिग्विजय सिंह, पवन कुमार, सुमेर सिंह, भारत सिंह, राजेंद्र सिंह, गिर्राज व दिलीप आदि शामिल थे। गिरफ्तार दोनों आरोपियों को गुरूवार को कोटा एसीबी कोर्ट में पेश किया जाएगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com