आमजन के लिए आमजन द्वारा

#MeToo : अब जाकर एमजे अकबर ने दिया मंत्री पद से इस्तीफा

44

नई दिल्ली –  देशभर में एक के बाद एक कई नामचीन लोगों पर लगे #MeToo के आरोपों के बीच विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने आज अपने पद इस्तीफा दे दिया है। इससे पूर्व रविवार को विदेश यात्रा से वापस लौटने के बाद अकबर ने यौन उत्पीड़न के आरोपों को नकार दिया था। उन्होंने कहा कि ये सारे आरोप आधारहीन हैं और अफवाह सुनकर लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि इन आरोपों से उनकी छवि को धक्का पहुंचा है और वह इसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।

विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने प्रधानमंत्री कार्यालय को अपना इस्तीफा भेज दिया है। न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एमजे अकबर ने अपने बयान में कहा, ‘चूंकि मैंने अपनी व्यक्तिगत क्षमता के आधार पर कोर्ट में न्याय पाने का फैसला किया है, मुझे यह सही लगता है कि मैं अपना पद छोड़ दूं और मेरे खिलाफ लगाए गए गलत आरोपों को व्यक्तिगत क्षमता के आधार पर चुनौती दूं। इसलिए मैंने अपना इस्तीफा विदेश मंत्रालय को सौंप दिया है। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का आभारी हूं कि उन्होंने मुझे देश की सेवा करने का मौका दिया।’

गौरतलब है कि महिला पत्रकार के आरोपों पर विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर का कहना है कि एशियन एज के छोटे से दफ़्तर में यह संभव ही नहीं था। अकबर ने कहा कि जो कुछ भी आरोप लगाया है उसके बाद भी वह महिला पत्रकार उनके साथ काम करती रहीं। वहीं दूसरी ओर, महिला पत्रकार ने अकबर के दावों का खंडन करते हुए कहा कि यह हादसा सूर्यकिरण बिल्डिंग के उस दफ़्तर में हुआ, जहां एमजे अकबर का विशाल केबिन था। उन्होंने कहा कि उस घटना के बाद कभी अकबर के साथ काम नहीं किया।

अकबर पर लगे आरोपों को लेकर उनके इस्तीफे की मांग करते हुए यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया था। ये लोग एमजे अकबर के घर के बाहर जमा होकर अकबर के इस्तीफे की मांग कर रहे थे। हालांकि बाद में पुलिस ने जबरन इन लोगों को वहां से उठाया और घसीट कर गाड़ियों में भरकर हिरासत में ले लिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com