आमजन के लिए आमजन द्वारा

अब माइकल को मनोज कहिएगा, गंभीर रोगियों को दिया भामाशाह योजना का लाभ

156

मंजूर मंसूरी/आसींद/भीलवाड़ा – राजस्व लोक अदालत अभियान न्याय आपके द्वारा आज कैंप दौलतगढ़ में सम्पन्न हुआ। इसमें माइकल का दुरूस्त कर मनोज किया गया। नाम शुद्धिकरण के बाद कहा कि अब माइकल नहीं मनोज कहिए। माइकल की मां मंजू देवी आंगनबाड़ी केंद्र दौलतगढ़ में कार्यरत है। अपने पुत्र के नाम के शुद्धीकरण को लेकर काफी चिंतित थी। उसका बचपन में नाम माइकल रख दिया गया था। माइकल के पिता का देहांत तब हो गया था जब माइकल महज 1 वर्ष का था। आज कैंप में मंजू देवी की ड्यूटी होने के कारण वह कैंप में उपस्थित थी। अपने बच्चे माइकल को साथ लेकर उपखंड अधिकारी दिनेश धाकड़ से जमाबंदी में पुत्र का नाम दुरूस्त करने का निवेदन किया। उपखंड अधिकारी ने प्रकरण में तहसीलदार आसींद भू-अभिलेख निरीक्षक पटवारी से रिपोर्ट लेकर प्रस्तुत दस्तावेजों के आधार पर माइकल से मनोज नाम दर्ज करने का आदेश जारी किया। नाम शुद्ध होने का आदेश प्राप्त होते ही मंजू देवी बोली अब मेरे बच्चे का भविष्य सुरक्षित हो गया। अब मैं बैंक में सरकारी योजनाओं का लाभ ले सकूंगी। तभी माइकल बोल उठा मुझे माइकल नहीं मनोज कहिए। अब मैं मनोज कहलाऊंगा।

इसी प्रकार के दूसरे प्रकरण में सत्यजीत सिंह पिता हनुमान सिंह निवासी दौलतगढ़ ने उपस्थित हो निवेदन किया जमाबंदी में मेरा नाम सत्य विजय सिंह अशुद्ध दर्ज है। इसे सत्यजीत सिंह शुद्ध दर्ज करवा दो। मेरे अन्य दस्तावेज पैन कार्ड आधार कार्ड पहचान पत्र राशन कार्ड विद्यालय के समस्त दस्तावेजों में सही नाम दर्ज है। उपखंड अधिकारी के निर्देश पर तहसीलदार ने प्रकरण तैयार करवा प्रस्तुत किया। प्रकरण में उपखंड अधिकारी ने सत्य विजय सिंह के बजाय सत्यजीत सिंह दर्ज करने के आदेश जारी कर प्रति सौंपी। तब सत्यजीत सिंह बोल उठा तहसील के चक्कर लगा लगा कर थक गया पर आज कैंप में तत्काल नाम शुद्ध हो गया।

शिविर में कैंसर पीड़िता को भी लाभान्वित किया गया, अब शांता देवी का निःशुल्क इलाज हो सकेगा। ओम प्रकाश पिता रामचंद्रदास बैरागी उम्र 67 वर्ष निवासी शाहपुरा को जैसे ही डॉक्टर ने बताया कि उसकी पत्नी शांता देवी के फेफड़ों में छेद होकर कैंसर से पीड़ित है तथा उसको त्वरित इलाज की जरूरत है। यह सुनकर उस पर दुःखों का पहाड़ टूट पड़ा। ओमप्रकाश ने बताया कि उसके पास न तो पैसे थ और न ही कलियुगी बच्चों ने उसका साथ दिया। उसने मदद की आस में अपने कदम आज दौलतगढ़ कैंप की ओर बढ़ाए।

उपखंड अधिकारी दिनेश कुमार धाकड़ से सरकारी मदद की गुहार लगाई और कहा कि अब तो आप ही भगवान हो। अब तो आप ही शांता को बचा सकते है, यह कहते-कहते आंखों से आंसू टपक पड़े। उपखंड अधिकारी ने प्रकरण में शांता देवी की मेडिकल रिपोर्ट तहसीलदार बदनोर की रिपोर्ट प्राप्त कर खाद्य सुरक्षा में नाम जोड़कर भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना से लाभान्वित किया और ओमप्रकाश को समझाया कि अब 3,00,000 तक का उपचार करवा सकेगा।

राजेश कुमार खटीक उम्र 32 वर्ष हृदय रोगी को अब मिल सकेगा निःशुल्क इलाज

आज कैंप में सत्यनारायण खटीक ने उपखंड अधिकारी दिनेश कुमार धाकड़ के समक्ष उपस्थित होकर जयपुर रेलवे अस्पताल में भर्ती अपने भाई राजेश कुमार खटीक की व्यथा बताई, कहा कि राजेश हृदय रोगी है। उसे महंगे इलाज की जरूरत है। भाई की उम्र 32 वर्ष है। मेरी भोजाई कंचनदेवी जो उसके साथ जयपुर अस्पताल में है कि उम्र 29 वर्ष के दो नाबालिग बच्चे हैं। उसका इलाज कराने में सक्षम नहीं है। मेहनत-मजदूरी से जैसे तैसे अपना जीवन यापन कर रहे है। आज ही उनको भीलवाड़ा से जयपुर अस्पताल में रेफर किया गया है। ह््रदय में ब्लॉकेज है स्टैंड से इलाज संभव है। इतना महंगा इलाज हमारा परिवार नहीं करा सकता। उपखंड अधिकारी ने प्रकरण में मेडिकल रिपोर्ट तहसीलदार की रिपोर्ट प्राप्त कर खाद्य सुरक्षा योजना में नाम भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना से लाभांवित किया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com