Breaking News

बजरी परिवहन करते हुए एक ट्रैक्टर ट्रोली को पुलिस ने किया ज़ब्त धूमधाम से हुआ तीन दिवसीय मेवाड़ महोत्सव आगाज पिछोला झील किनारे लोक संस्कृति और परम्पराओं के अनूठे संगम ने बांधा समा महिलाएं, युवा व दिव्यांगजन संभालेंगे मतदान की कमान हर विधानसभा क्षेत्र में बनेंगे आठ-आठ सखी और युवा बूथ तीन दिवसीय मेवाड़ महोत्सव का आगाज कल से शाही ठाठ-बाट से निकलेगी गणगौर की सवारी, होंगे सांस्कृतिक आयोजन व प्रतियोगिताएं संसदीय क्षेत्र में 3152 मतदाता घर बैठे करेंगे मतदान पहले चरण में 14 से 21 अप्रैल तक घर-घर जाएंगे मतदान दल 85 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिक व दिव्यांगजनों को मिलेगी सुविधा उदयपुर संसदीय क्षेत्र की तस्वीर साफ, 8 प्रत्याशी चुनाव मैदान में किसी भी उम्मीदवार ने नहीं लिया नाम वापस, चुनाव चिन्ह आवंटित
Home » प्रदेश » किसने और क्यों की महेंद्र ओड़ की हत्या, जांच में जुटी पुलिस

किसने और क्यों की महेंद्र ओड़ की हत्या, जांच में जुटी पुलिस

Mahendra Od

सायरा (Udaipur) – शनिवार रात को बिन्दौली निकलवाने के लिए घोड़ा लेकर गया ओड़ों का गुड़ा निवासी महेंद्र ओड़ पुत्र स्व. अमृत लाल ओड़ वापस घर नहीं पहुंचा। रविवार सुबह रावलिया खुर्द निवासी भरत पुत्र देवी लाल टेलर (22 वर्ष) व ढ़ोल निवासी रतन लाल पुत्र चमन लाल लौहार (23 वर्ष) पिकअप जीप में महेंद्र का शव लेकर ओड़ों का गुड़ा पहुंचे और उसे परिजनों को सौंपना चाहा लेकिन परिजनों ने शव लेने से इंकार करते हुए उन दोनों पर हत्या का आरोप लगाते हुए पुलिस को सूचना दे दी।

बाद में मौके पर पहुंची पुलिस ने पिकअप को जब्त करते हुए दोनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया और पोस्टमार्टम करवाने के लिए शव को सायरा सीएचसी में रखवाया।

पुलिस ने मृतक महेंद्र के बड़े भाई शंकर लाल पुत्र अमृत लाल ओड़ की रिपोर्ट के आधार पर एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी। शंकर लाल ने रिपोर्ट में बताया कि उसका भाई महेंद्र ओड़ बिन्दौली में घोड़ा चलाने का काम करता था। शनिवार रात को उसने पानेर व रावलिया खुर्द में बिन्दौली निकलवाई। इसके बाद उसने घोड़ा गणेश सिंह को सौंपा ही था कि पिकअप लेकर आए रावलिया खुर्द के भरत पुत्र देवी लाल टेलर व ढ़ोल के रतन लौहार ने उसे अगुवा कर लिया। रविवार सुबह दोनों आरोपी पिकअप में महेंद्र का शव लेकर जा रहे थे, तभी ग्रामीणों ने पिकअप को रूकवाकर पुलिस को सूचना दी।

पिकअप जीप में पड़ा महेंद्र का शव

उधर मृतक के दादा पेमाराम ओड़ ने बताया कि रविवार सुबह करीब 10 बजे दो युवक पिकअप लेकर उसके घर के सामने आए और आवाज देकर गाड़ी के पास बुलाया तथा महेंद्र की हालात गंभीर बताते हुए उसे पिकअप से उतारकर अस्पताल ले जाने के लिए कहा। पेमाराम ने बताया कि पिकअप को देखकर उसके परिवार की महिलाएं भी पास आ गई। महेंद्र पिकअप में दो युवकों के बीच में बुत की तहर बैठा था, यह देखकर कर उन्हें शक हुआ और उसका नाम पुकारते हुए उसे हिलाया डुलाया तो उसका पूरा शरीर लुढ़़क गया। तब परिजनों ने उसे मृत बताते हुए शव लेने से इंकार कर दिया। दोनों आरोपियों ने पेमाराम ओड़ को बताया कि महेंद्र ढ़ोल के पास नाले के किनारे नग्न अवस्था में घायल पड़ा था, जिसे वो कपड़े पहनाकर लाए है। महेंद्र को मृत पाकर ग्रामीणों ने भरत टेलर व रतन लौहार को रोक दिया और उन पर हत्या करने का आरोप लगाते हुए सरपंच पति शंकर लाल गमेती व सायरा पुलिस को सूचना की। मौके पर पहुंची सायरा पुलिस ने दोनों आरोपियों को डिटेन करते हुए पिकअप व मृतक के शव सहित सायरा थाने में ले गई और शव को पोस्टमार्टम के लिए सायरा सीएचसी की मोर्चरी में रखवाया। पोस्टमार्टम से पहले बनाए गए वीडीओ में मृतक के गले व पैर में रस्सी बांधने तथा पेट व सीने पर चोटों के निशान दिखे। परिजनों ने पीट-पीट कर हत्या करने का आरोप लगाया है। इस दौरान गांव के कई लोग व परिवारजन भी पुलिस थाने में पहुंचे। थानाधिकारी प्रवीण सिंह ने बताया कि मृतक के बड़े भाई की रिपोर्ट के आधार पर एफआईआर दर्ज कर संदिग्धों की पहचान कर डिटेन करने की कार्यवाही की जा रही है। उन्होंने बताया कि मंगलवार सुबह पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों को सुपुर्द किया जाएगा।

dailyrajasthan
Author: dailyrajasthan

Facebook
Twitter
WhatsApp
Telegram

Leave a Comment

Realted News

Latest News

राशिफल

Live Cricket

क्या आप \"Daily Rajasthan \" की खबरों से संतुष्ट हैं?